rld sapa gathbandan 1

मेरठ में पड़ने वाली बागपत लोकसभा की सिवालखास विधानसभा सीट पर रालोद सपा गठबन्दन का फंसा पेंच निकल नहीं रहा है। इस सीट को लेकर गठबंधन में शामिल सपा और रालोद दोनों अड़ी है। ऐसे में दोनों पार्टियों के समर्थक जहां मायूस है वहीं विपक्ष गठबंधन की इस अदावत को अपने लिए अच्छा मान रहा है। हालांकि शाम तक इस सीट पर प्रत्याशी का फैसला होने का दावा किया जा रहा है।

सूत्रों का कहना है कि बागपत लोकसभा के अंतर्गत आने वाली छपरौली, बड़ौत, बागपत, मोदीनगर सीट रालोद के खाते में चली गई है। सपा प्रमुख इस लोकसभा की सिवालखास सीट को अपने पूर्व विधायक के लिये मांग रहे है। रालोद प्रमुख चौधरी जयंत सिंह अपनी लोकसभा की सभी सीट चाहते है। यही वो पेंच है जो निकल नहीं पा रहा है। वहीं सूत्रों का यह भी कहना है कि इस सीट पर पेंच इसलिए फंसा हुआ है, क्योंकि मेरठ में रालोद को 2 सीटें दी जानी हैं, जिनमें सिवालखास, कैंट और मेरठ दक्षिण में से कोई 2 सीटें होंगी। अभी तक यह तय नहीं हुआ है कि वे दो सीटें कौन सी होंगी।

रालोद और सपा सूत्रों के मुताबिक सिवालखास विधानसभा का मामला सुलझा लिया जाएगा। सिवालखास सीट की घोषणा शाम तक होने की संभावना है।