सहारनपुर जिला कारागार में 23 कैदी HIV पॉजिटिव मिलने से मचा हड़कंप

सहारनपुर की जिला जेल में 5 माह में दो बार स्वास्थ्य विभाग द्वारा जांच शिविर लगाया गया, जिसमे 23 कैदियों में एचआईवी पॉजिटिव वायरस की हुई पुष्टि

सहारनपुर की जिला जेल में 23 कैदियों में एचआईवी पॉजिटिव वायरस की पुष्टि होने से हड़कंप मच गया। जाँच में पुष्टि होने वालो में एक महिला कैदी और 22 पुरुष कैदी हैं। स्वास्थ्य विभाग की ओर से लगाए गए जांच शिविर में इसका खुलासा हुआ है। स्वास्थ्य विभाग से जुड़े अधिकारीयों ने इसकी रिपोर्ट जेल प्रशासन और शासन को दी है। जेल में इतनी अधिक संख्या में एचआईवी पॉजिटिव मरीज मिलने से जेल प्रशासन सकते में है।

एचआईवी पॉजिटिव वायरस की पुष्टि होने से जेल प्रशासन इन कैदियों की हिस्ट्री खंगालने में लगा है। ताकि एचआईवी वायरस का सोर्स पता चल सके। इन कैदियों को इलाज के लिए राज्य एड्स नियंत्रण सोसायटी और एंटी रेट्रो वायल थैरेपी सेंटर(एआरटी सेंटर) को लेटर भेजा गया है।

येह भी पड़े–  शिवभक्त कांवड़ियों की सभी परेशानीयों का 24 घंटे होगा समाधान: सुनील भराला

 

स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, जिन कैदियों में एड्स की पुष्टि हुई है। वे सभी ड्रग एडिक्ट हैं। नशे के चलते ही उनकी गिरफ्तारी हुई है। इनमें से अधिकांश गंगोह, बेहट, देवबंद और मिर्जापुर के कैदी है। यह कैदी पांच से सात माह के अंतराल में जेल में आए हैं। स्वास्थ्य विभाग अब इन कैदियों के परिवारों की जानकारी लेकर उनके सैंपल लेने की तैयारी कर रहा है।

☛ Subscribe to our Youtube Channel – Crime Sansar News

सहारनपुर की जिला जेल में स्वास्थ विभाग की जाँच में 23 कैदियों में एचआईवी पॉजिटिव वायरस की पुष्टि होने के बाद भी जेल प्रशासन कैदियों के बारे में स्पष्ट जानकारी नहीं दे रहा है। जेल अधीक्षिका अनिता दूबे कहती हैं, “जांच शिविर में करीब 6 कैदियों में एचआईवी की पुष्टि हुई है। जेल में कुल 23 एचआईवी के मरीज है। इन कैदियों में ज्यादातर ड्रग ऐडिक्ट है।

Please Subscribe Crimesansar on You Tube

https://www.youtube.com/channel/UCLynGO6dgXpSnEsD_4DJbAw

वहीं, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. संजीव मांगलिक ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि सहारनपुर की जिला जेल में स्वस्थ शिविर आयोजित किया गया था जिसमे कैदियों के स्वावस्थ परिक्षण में कुल 23 कैदियों में एचआईवी पॉजिटिव की पुष्टि हुई है। जेल में 5 महीने में दो बार जांच शिविर लगाया गया था। इनकी रिपोर्ट अब आई है। इनमें टीबी और एड्स के लक्षण देखते हुए सैंपल भेजे गए थे।