yy1

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को देर शाम वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश की कानून-व्यवस्था की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने यह निर्देश दिए कि आने वाले दिनों में महत्वपूर्ण धार्मिक पर्व एवं त्योहारों को देखते हुए प्रदेश भर में कही भी निकलने वाली बिना मंजूरी शोभायात्रा और जुलूसों पर रोक रहेगी। मुख्यमंत्री ने स्पष्ट हिदायत दी कि किसी शोभायात्रा या धार्मिक जुलूस को अनुमति देने से पूर्व आयोजक से शांति-सौहार्द कायम रखने के संबंध में शपथ पत्र भी लिया जाए। अनुमति केवल उन्हीं धार्मिक जुलूसों को दिया जाए, जो पारंपरिक हों। नए आयोजनों को अनावश्यक अनुमति न दी जाए।

मुख्यमंत्री ने कमिश्नर से लेकर थानाध्यक्ष स्तर तक के सभी प्रशासनिक व पुलिस अधिकारियों के अवकाश चार मई तक के लिए तत्काल प्रभाव से निरस्त कर दिए हैं। जो अधिकारी वर्तमान में अवकाश पर हैं, उन्हें भी अगले 24 घंटे के अंदर अपने तैनाती स्थल पर वापस लौटने को कहा गया है। इस निर्देश का पालन मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा कराया जाएगा। वीडियो कांफ्रेंसिंग के दौरान डीजीपी मौजूद नहीं थे। बैठक में सीएम ने अलीगढ़ में पुलिस प्रशासन की कार्यप्रणाली पर भी नाराजगी जताई।

मुख्यमंत्री ने स्पष्ट हिदायत दी कि अनुमति केवल उन्हीं धार्मिक जुलूसों को दिया जाए, जो पारंपरिक हों। नए आयोजनों को अनावश्यक अनुमति न दी जाए। धार्मिक कार्यक्रम व पूजा-पाठ आदि निर्धारित स्थान पर ही हों। प्रशासन इसका ध्यान रखे कि सड़क मार्ग या यातायात बाधित कर कोई धार्मिक आयोजन न हो।