200 से ज्यादा ग्रीन बेल्ट पर बने अवैध निर्माण पर चला बुलडोजर:

ग्रीन बेल्ट पर भूमाफियाओं द्वारा किये गए अवैध कब्जो पर चला MDA का Bull

मेरठ,पश्चिमी यूपी में अवैध निर्माणों पर बुलडोजर की कार्रवाई लगातार जारी है। बुधवार को भी मेरठ में मेरठ विकास प्राधिकरण ने अवैध निर्माणों पर बुलडोजर चलवा दिया। बागपत रोड पर मेरठ विकास प्राधिकरण के जोनल अधिकारी के नेतृत्व में ग्रीन बेल्ट पर बने अवैध निर्माणों का ध्वस्तिकरण कराया गया। 200 से ज्यादा निर्माणों पर मेरठ विकास प्राधिकरण की टीम ने कार्यवाही करते हुए ध्वस्तिकरण की कार्यवाही को भारी पुलिस बल के साथ अंजाम दिया गया।

मेरठ विकास प्राधिकरण और नगर निगम की संयुक्त टीम द्वारा मेरठ के बागपत रोड स्थित प्राधिकरण के जॉन सी में प्राधिकरण के जोनल अधिकारी के नेतृत्व में बड़ी संख्या में अवैध निर्माणों पर ध्वस्तिकरण की कार्रवाई को किया गया। ध्वस्तिकरण की कार्यवाही शांतिपूर्वक रहे इसको लेकर नगर निगम और मेरठ विकास प्राधिकरण की टीम के साथ भारी पुलिस भी बल भी तैनात रहा। ऐसी लगभग 200 अवैध संपत्तियों को चिन्हित किया गया था अवैध रूप से ग्रीन बेल्ट पर निर्मित कर दिया गया था। अवैध संपत्तियों को चिन्हित करके जोनल अधिकारी अरुण कुमार शर्मा के नेतृत्व में पहुंची मेरठ विकास प्राधिकरण की टीम ने पीले पंजे से ध्वस्त कर दिया। जोनल अधिकारी के नेतृत्व में अवर अभियंताओं की टीम ने पहले अवैध निर्माणों को सामान खाली कराने की चेतावनी देते हुए उनके ध्वस्तिकरण की कार्रवाई को अंजाम दिया। यह भी माना जा रहा है की एनजीटी की ओवरसाइट कमेटी को 11 जुलाई को मेरठ में निरीक्षण के लिए पहुंचना है और कमेटी के निरीक्षण से पहले ही बागपत रोड, रोहटा रोड फ्लाईओवर के पास ग्रीनबेल्ट पर ध्वस्तिकरण के अभियान चलाकर सभी अवैध निर्माणों को जमींदोज कर दिया गया।

किसी भी शहर के डेवलपमेंट प्रोजेक्ट में छोड़ी गई ग्रीन बेल्ट पर किसी भी प्रकार का निर्माण गलत होता है। प्रशासन हो या जनता कोई भी ग्रीन बेल्ट पर कंस्ट्रक्शन करे उसे अवैध माना जाता है। शहर के सौंदर्यकरण और विकास में किसी प्रोजेक्ट के तहत जिस विभाग की जमीन है वह विभाग ग्रीन बेल्ट को तब्दील करवा निर्माण कर सकता है। लेकिन बागपत रोड की इस ग्रीन बेल्ट पर मेरठ विकास प्राधिकरण की आंखों के सामने लगातार कब्जा होता चला गया और एक के बाद एक अवैध निर्माण यहां पर पक्के होते चले गए। जिन पर मेरठ विकास प्राधिकरण कार्रवाई करने में लगा हुआ है।