गुरवार को मेडिकल कॉलेज में ऑपरेशन के बारे में जानकारी देती डॉक्टरों की टीम

मेरठ के लाला लाजपत राय मेडिकल कॉलेज ने चिकित्सा क्षेत्र में एक और मील का पत्थर स्थापित कर दिया है। मेडिकल कॉलेज के हृदय रोग विभाग में बिना किसी तरीके का कट या ऑपरेशन करें मरीज की खून की मुख्य नस को खोलने में सफलता हासिल की है। इस तरीके का ऑपरेशन मेडिकल कॉलेज में पहली बार हुआ है।

☛ Like us: Youtube channel : https://www.youtube.com/channel/UCLynGO6dgXpSnEsD_4DJbAw

मेडिकल कालेज मेरठ सुपरस्पेशिलिटि ब्लॉक पी0एम0एस0एस0वई0 में ब्रस्पतिवार प्रेस वार्ता मीडिया को जानकारी उपलब्ध कराई गई, जिसमें हृदय रोग विभाग के डा0 सी0बी0 पाण्डेय ने बताया कि हृदय रोग विभाग में भर्ती मरीज अंजीश की गले से हाथों मे जाने वाली खून की मुख्य नली पूर्ण रूप से बंद थी उसका बिना चीर फाड आपरेशन कर बंद खून की नली को खोला गया। इस तरह का आपरेशन मेडिकल कॉलेज मेरठ में पहली बार हुआ है।

☛Follow us : Twitter : https://twitter.com/crimesansar

प्रेस वार्ता के दौरान डा0 शशांक पाण्डेय ने बताया की मरीज की खून की नली इस तरह से बंद थी कि उसका हाथ काटने की भी नौबत आ गयी थी। बिना चीर फाड के आपरेशन के द्वारा उसके दाहिने हाथ को बचाया गया। अब मरीज का दाहिना हाथ पहले की अपेक्षा, पूर्ण रूप से काम करने लगा है। हृदय रोग विभाग में भर्ती एक दूसरे मरीज असलम के हृदय की तीनो मुख्य नलियां पूर्ण रूप से बंद थी और उनका विषम उदगम था इन नलियों का बिना चीर फाड आपरेशन बहुत ही कठिन था परन्तु इसे भी डा0 सी0बी0 पाण्डेय तथा डा0 शशांक पाण्डेय की टीम ने इस आपरेशन की चुनोती को स्वीकार किया और मरीज के हृदय की तीनो बंद नलियों(ट्रिपल वेसल सी0टी0ओ0) को भी बिना चीर फाड के आपरेशन से खोल दिया गया। मेडिकल कॉलेज के मीडिया प्रभारी डा0 वी0डी पाण्डेय ने बताया की दोनो ही मरीजो ने पहले दिल्ली के सरकारी एवं गैर सरकारी सुपर स्पेशिलिटी संस्थान में कई बार परामर्श लिया, परन्तु प्रतीक्षा सूची लम्बी होने के कारण उनका आपरेशन वहां नही हो पाया। फिर मेडिकल कॉलेज मेरठ के हृदय रोग विभाग में परामर्श लिया विभाग के चिकित्सको ने बीमारी को गम्भीरता से लेते हुए आपरेशन कर दोनो ही गम्भीर रूप से बीमार मरीजो को स्वस्थ कर दिया। उपरोक्त दोनो ही मरीज आयुष्मान लाभार्थी थे एवं उनका पूर्ण इलाज निःशुल्क हुआ है।

☛ Follow us- Facebook : https://facebook.com/crime.sansar

मेडिकल कॉलेज के आयुष्मान भारत योजना के प्रभारी अधिकारी डा0 नवरत्न गुप्ता ने बताया कि आयुष्मान भारत योजना मरीज हित में भारत एवं उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा जनकल्याणी योजना है एवं योजना प्रारम्भ से आज तक मेडिकल कॉलेज में लगभग 3000 से अधिक लाभार्थीयों को उपचार की निशुल्क व्यवस्था उपलब्ध करायी गयी है। जिसमें दिल के अप्रेशन भी निशुल्क किये गये है जिनका प्राईवेट चिकित्सालयों में खर्चा किसी आम आदमी के लिये सम्भव नही हैं। इसके अतिरिक्त इस चिकित्सा महाविद्यालय में आर्थेापेडिक में घुटना एव कूल्हा प्रत्यारोपण भी निशुल्क उपलब्ध कराने के साथ सभी इम्पलान्ट, सर्जरी, यूरोलाजी, पीडिया, न्यूनोटॉलाजी, न्यूरोसर्जरी विभिन्न प्रकार की 15 विशेषताओं में इलाज की निशुल्क व्यवस्था उपलब्ध करायी जा रही है। जिसमें इलाज के दौरान होने वाली जॉचे भी शामिल है।

☛ Mail us for any suggestion or Complaint : crimesansar@gmail.com

सी0टी0वी0एस0 विभाग के डा0 रोहित ने अवगत कराया कि विभाग के अन्तर्गत एंडोवस्कुलर सर्जरी के द्वारा छोटे चीरे ब्लाक नसों को खोलने के आप्रेशन प्रारम्भ हो गये एवं शीघ्र ही शोक ट्रोमा युनिट का गठन किया जायेगा जिसमें एंडोवस्कुलर रिस्सीटेशन तक्नीक से शौक एवं ट्रोमा के गम्भीर मरीजो को बचाने में मदद मिलेगी यह तकनीक सबसे नयी है एवं भारत मे किसी भी मेडिकल कालेज में वर्तामान मे उपलब्ध नही है।
डा0 आर0सी0 गुप्ता, प्रधानाचार्य, मेडिकल कालेज मेरठ द्वारा बताया गया कि वर्तमान में सुपरस्पेश्लिटी ब्लाक में विभिन्न विभाग संचालित है जो सुचारू रूप से भर्ती होने मरीजो को उचित उपचार की व्यवस्था उपलब्ध करायी जाती है इसके अतिरिक्त शीघ्र ही अन्य विशेषताओं को प्रारम्भ किया जायेगा। प्रेस वार्ता में डा0 के0एन0तिवारी, प्रमुख अधीक्षक, डा0 रोहित, डा0 सी0बी0 पाण्डेय, डा0 शशान्क पाण्डेय, डा0 नवरतन गुप्ता, डा0 वी0डी0 पाण्डेय, डा0 प्रेम प्रकाश मिश्रा उपस्थित रहे।