हिमाचल प्रदेश कौशल विकास निगम द्वारा आयोजित कार्यक्रम में अद्यक्षता करते मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर

राज्य सरकार युवाओं के कौशल विकास के लिए कृतसंकल्पः जय राम ठाकुर

शिमला,15 जुलाई,हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री आज विश्व युवा कौशल दिवस के अवसर पर हिमाचल प्रदेश कौशल विकास निगम द्वारा आयोजित कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे। कार्यक्रम के दौरान अद्यक्षता करते हुए उन्होंने कहा की,प्रदेश सरकार युवाओं के कौशल उन्नयन के लिए दृढ़ प्रयास कर रही है ताकि उन्हें विभिन्न क्षेत्रों में रोज़गार और स्वरोज़गार के अधिक अवसर प्राप्त हो सकें।

☛ Like us: Youtube channel: https://www.youtube.com/channel/UCLynGO6dgXpSnEsD_4DJbAw

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने कहा कि प्रदेश सरकार राज्य के युवाओं के कौशल विकास और सुधार के लिए हर सम्भव सहायता प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है ताकि वे बेहतर तरीके से अपनी आजीविका अर्जित कर सकें। उन्होंने कहा कि युवाओं के लिए यह महत्वपूर्ण है कि वे रूचि के अनुसार अपने कौशल में निखार लाएं ताकि उन्हें लाभकारी रोज़गार उपलब्ध हो सके।

☛Follow us : Twitter https://twitter.com/crimesansar

जय राम ठाकुर ने कहा कि इस वर्ष विश्व युवा कौशल दिवस का विषयवस्तु ‘जीवन, कार्य और सतत विकास के लिए प्रज्ञता और कौशल’ है। उन्होंने कहा कि इस दिवस के आयोजन का उद्देश्य विश्व के युवाओं के मध्य विभिन्न प्रकार के कौशल को प्रोत्साहन प्रदान करना है ताकि उन्हें रोज़गार के अधिक अवसर प्राप्त हों और वे अपने कौशल के बल पर अच्छा जीवन यापन कर सके। कौशल विकास निगम युवाओं के कौशल विकास पर विशेष बल दे रहा है और युवाओं को हुनरमंद बनाने के लिए निरंतर प्रयासरत है।

☛ Follow us- Facebook https://facebook.com/crime.sansar

मुख्यमंत्री ने कहा कि अब तक हिमाचल प्रदेश कौशल विकास परियोजना के अन्तर्गत 545 करोड़ रुपये के अनुबन्ध किए जा चुके हैं। हिमाचल प्रदेश कौशल विकास परियोजना के अन्तर्गत एशियन विकास बैंक द्वारा 195 करोड़ रुपये का भुगतान किया जा चुका है। इसके अतिरिक्त, एशियन विकास बैंक की सहायता से सोलन जिला के वाकनाघाट में पर्यटन, आतिथ्य और सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र में उत्कृष्टता केन्द्र स्थापित किया जा रहा है।

☛ Subscribe to our Youtube Channel – Crime Sansar News

जय राम ठाकुर ने कहा कि उच्च कौशल विकास को केंद्र में रखते हुए हिमाचल प्रदेश कौशल विकास निगम ने लगभग 16000 हिमाचली युवाओं को आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, वेब डिजाइनिंग, मशीन लर्निंग जैसे विषयों का प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए सरकारी संस्थानों और विश्वविद्यालयों के साथ समझौता ज्ञापन हस्ताक्षरित किए हैं। इसके अतिरिक्त प्रदेश सरकार के राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों के माध्यम से लघु अवधि के अप-स्कीलिंग और मल्टी स्कीलिंग प्रशिक्षण शुरू किए गए हैं।

For more update about latest news & entertaining videos… – Crime Sansar News

मुख्यमंत्री ने कहा कि कौशल विकास निगम ने दिव्यांगजनों के लिए ‘नवधारणा कार्यक्रम’ शुरू किया है जिसके अन्तर्गत खुदरा, पर्यटन और आतिथ्य क्षेत्र में कौशल प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा। योजना का तीसरा चरण प्रगति पर है और इसके अन्तर्गत 16200 से अधिक युवाओं को नामित किया गया है। योजना के तीसरे चरण में प्रदेश के 1600 प्रशिक्षुओं को प्रशिक्षण प्रदान किया जा चुका है। प्रदेश में कौशल विकास निगम विश्व बैंक की सहायता से संकल्प कार्यक्रम संचालित कर रहा है।

Mail us for any suggestion or Complaint : crimesansar@gmail.co

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर मण्डी जिले के पधर में कौशल विकास निगम के प्रशिक्षुओं और निफ्ट कांगड़ा में प्रशिक्षुओं के साथ वर्चुअल माध्यम से संवाद किया। उन्होंने पीटरहॉफ में उपस्थित कौशल विकास निगम के माध्यम से कार्यान्वित विभिन्न पाठयक्रमों के चुनिंदा प्रशिक्षुओं और लाभार्थियों से भी बातचीत की। उन्होंने इस अवसर पर कौशल विकास निगम के मोबाइल एप और ई-पत्रिका का भी विमोचन किया। उन्होंने इस अवसर पर कौशल उन्नयन गतिविधियों और परियोजनाओं से संबंधित विभिन्न संगठनों को भी सम्मानित किया। हिमाचल प्रदेश आयुष विभाग के साथ स्पा थैरेपिस्ट के लिए, महिला एवं बाल विकास विभाग के साथ बाल देखभाल संस्थान के हितधारकों और अन्य प्रशिक्षकों को प्रशिक्षण के लिए और राष्ट्रीय कौशल विकास निगम के साथ अन्तरराष्ट्रीय प्लेसमेंट को ध्यान में रखते हुए हिमाचली युवाओं के कौशल उन्नयन के लिए समझौता ज्ञापन हस्ताक्षरित किए गए।

#Crimesansar News☛ Subscribe to our Youtube Channel – Crime Sansar News

कार्यक्रम में शिरकत कर रहे सूचना प्रौद्योगिकी एवं तकनीकी शिक्षा मंत्री डॉ. राम लाल मारकंडा ने कहा कि राज्य सरकार औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान, पॉलिटेक्निक कॉलेजों और अन्य इंजीनियरिंग संस्थानों के माध्यम से युवाओं के कौशल उन्नयन पर बल दे रही है। उन्होंने कहा कि इन संस्थानों में 6800 से अधिक युवाओं को कैंपस साक्षात्कारों के माध्यम से नौकरी प्रदान की गई है। उन्होंने कहा कि वाकनाघाट में बनने वाले सेंटर ऑफ एक्सीलेंस का काम प्रगति पर है। उन्होंने कहा कि कौशल विकास निगम द्वारा युवाओं के कौशल उन्नयन के लिए विभिन्न पाठ्यक्रम आरम्भ करने के लिए कई संस्थानों के साथ समझौता ज्ञापन हस्ताक्षरित किए गए हैं। कौशल विकास निगम के राज्य समन्वयक नवीन शर्मा ने इस आयोजन में भाग लेने व अपना बहुमूल्य समय देने के लिए मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि निगम का प्रमुख लक्ष्य राज्य के युवाओं को नौकरी तलाश करने वालों के बजाय रोज़गार प्रदाता बनाना है।

हिमाचल प्रदेश कौशल विकास निगम की प्रबन्ध निदेशक कुमुद सिंह ने इस अवसर पर मुख्यमंत्री और अन्य गणमान्य व्यक्तियों का स्वागत करते हुए कहा कि राज्य के युवाओं को प्रशिक्षण प्रदान करने के हिमाचल प्रदेश कौशल विकास निगम की स्थापना 14 सितम्बर, 2015 को कंपनी अधिनियम (2013) के तहत राज्य सरकार के निगम के रूप में की गई थी। इस अवसर पर कौशल विकास पर आधारित एक वृत्तचित्र का प्रसारण भी किया गया।

#यह भी पढ़े ☛ पंजाब में जल्द ही गैंगस्टरो का नामोनिशान मिटा देंगे व नशे पर करेंगे नियंत्रण- डीजीपी

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग की निदेशक रूपाली ठाकुर, आयुष विभाग के निदेशक विनय सिंह, हिमाचल कौशल विकास निगम के महाप्रबंधक हर्ष अमरिंदर सिंह, विभिन्न औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों और अन्य संस्थानों के प्रधानाचार्य भी इस अवसर पर उपस्थित थे।