लॉन्च हुआ सर्वाइकल कैंसर का स्वदेशी टीका

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार दुनियाभर में हर साल एक लाख महिलाएं सर्वाइकल कैंसर से होती हैं प्रभावित

70 हजार महिलाओं की मौत हर साल हो जाती है सर्वाइकल कैंसर की वजह से

अब इस कैंसर से लड़ने के लिए भारत सरकार अपना पहला स्वदेशी सर्वाइकल कैंसर का टीका लॉन्च कर दिया है

देश के लिए एक बड़ी खुशखबरी है, सर्विकल कैंसर से महिलाओं को बचाने वाला पहला स्वदेशी टीका आ गया। केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री जितेंद्र सिंह ने गुरुवार को ‘क्वैड्रीवैलेंट’ ह्यूमन पेपीलोमा वायरस टीका लॉन्च किया। विशेषज्ञों के मुताबिक इस टीके को राष्ट्रीय टीकाकरण अभियान के जरिए हर किसी तक पहुंचाया जाएगा।

केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री जितेंद्र सिंह
केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री जितेंद्र सिंह

☛ Like us: Youtube channel : https://www.youtube.com/channel/UCLynGO6dgXpSnEsD_4DJbAw

सर्वाइकल कैंसर यानी गर्भाशय का मुख कैंसर इसे आम भाषा में बच्चेदानी के मुंह का कैंसर भी कहा जाता है। सर्वाइकल कैंसर आज हमारे देश में आम हो चुका है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार दुनिया भर में हर साल एक लाख महिलाएं इस बीमारी से प्रभावित होती हैं। जिनमें से 70 हजार महिलाओं की मौत हर साल सर्वाइकल कैंसर की वजह से हो जाती है। हर 8 मिनट में एक महिला इसकी चपेट में आती हैं। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि यह कैंसर कितना खतरनाक साबित हो सकता है।

सिरम इंस्टीट्यूट के सीईओ अदार पूनावाला
सिरम इंस्टीट्यूट के सीईओ अदार पूनावाला

☛Follow us : Twitter : https://twitter.com/crimesansar

इस कैंसर से लड़ने के लिए अब भारत सरकार अपना पहला स्वदेशी सर्वाइकल कैंसर का टीका लॉन्च कर दिया है। यह टीका सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया और बायो टेक्नोलॉजी विभाग ने साथ मिलकर बनाया गया है। सर्वाइकल कैंसर के टीके के लिए भारत में कई बार बहस छिड़ चुकी है, लेकिन आखिरकार इसका टीका भारत सरकार लॉन्च कर ही दिया। टीका बनाने वाले सिरम इंस्टीट्यूट के सीईओ अदार पूनावाला ने कहा, अभी कीमत तय नहीं की गई है लेकिन गर्भाशय ग्रीवा का टीका अन्य टीकों की तुलना में किफायती होगी। यह इस साल अंत में लोगों को मिलना शुरू हो जाएगा। हमारी योजना 20 करोड़ खुराक तैयार करने की है। पहले भारत में टीका उपलब्ध कराया जाएगा।

☛ Follow us- Facebook : https://facebook.com/crime.sansar

सर्वाइकल कैंसर का स्वदेशी टीका लांच होने के बाद मेरठ के चिकित्सकों ने काफी संतोष जताया। क्योंकि चिकित्सकों का मानना है कि महिलाओं में स्तन कैंसर के बाद सबसे अधिक गर्भाशय ग्रीवा कैंसर यानि सर्विकल कैंसर मिल रहा है। चिकित्सकों का कहना है कि जिले में हर महीने पांच से दस महिलाएं इलाज के लिए पहुंच रही हैं। जबकि स्क्रीनिंग के अभाव में काफी महिलाओं में बीमारी की पहचान ही नहीं हो रही है। महंगी जांच और इलाज की वजह से काफी महिलाएं जांच तक नहीं करवाती हैं। जिसके चलते उनमें अंतिम स्टेज में बीमारी की पहचान हो रही है। चिकित्सक बताते हैं कि महिलाएं इन बीमारियों के लेकर जागरूक नहीं हैं।

☛ Subscribe to our Youtube Channel – Crime Sansar News

गुरुवार को लांच हुए सर्वाइकल कैंसर से महिलाओं को बचाने वाले पहले स्वदेशी टीके की कीमत काफी कम रहने की उम्मीद है। बताया जा रहा है कि भारत के इस पहले स्वेदशी सर्वाइकल कैंसर टीके की कीमत 200 से 400 रुपए हो सकती है। इसका नाम क्वाड्रिवेलेंट ह्यूमन पैपिलोमावायरस वैक्सीन यानी क्यूएचपीवी रखा गया है। माना जा रहा है सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया का यह टीका इस साल के अंत तक उपलब्ध होगा।