img 6044

मेरठ: (विषेष संवाददाता) किसानों की मांगों को लेकर मेरठ में कमिश्नरी चौराहा स्थित चौधरी चरण सिंह पार्क में भाकियू की महापंचायत हुई । महापंचायत में आसपास के जिलों से हजारो की संख्या में किसान पहुंचे हैं। ट्रैक्टरो पर सवार होकर महापंचायत में पहुंचे किसानो से शहर, किसानों के नारों से गूंज उठा है। इस दौरान महापंचायत में पहुंच रहे किसानों के अनोखे अंदाज भी देखने को मिले। ज्यादातर किसान अपने ट्रैक्टर-ट्रॉली पर डीजे बजाते हुए पहुंचे । महापंचायत को भाकियू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश टिकैत व प्रवक्ता राकेश टिकैत ने संबोधित किया। महापंचायत में किसानों के गन्ना मूल्य भुगतान, मूल्य वृद्धि, बिजली मीटर, दस साल पुराने ट्रैक्टर समेत कई मुद्दों को उठाया गया।साथ ही दिल्ली में होने वाली आगामी 20 मार्च को किसानों की महापंचायत में अधिक से अधिक किसानों के पहुंचने का भी आवाहन राकेश टिकैत द्वारा महापंचायत में किया गया

भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) के कार्यकर्ता और किसानों ने कमिश्नरी चौराहे पर पूरी तरह कब्जा कर लिया । पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कई जिलों के किसानों की महापंचायत में धीरे-धीरे संख्या दोपहर तक बढ़ हजारो में पहुंच गयी। किसान रणसिंघा के साथ जोश बढ़ाते नजर आ रहे हैं, तो कुछ किसान ट्रैक्टर के बने बुलडोजर पर सवार होकर महापंचायत में पहुंचे।महापंचायत में शामिल होने के लिए राकेश टिकैत स्वयं ट्रैक्टर चलाकर पहुंचे। किसानों मे भाकियू नेता के सम्मान में 73 मीटर लंबी पगड़ी बांधी और राकेश टिकैत के महापंचायत में पहुंचते ही किसानों द्वारा जोरदार स्वागत किया गया।।महापंचायत को अंत में भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत संबोधित करते हुए प्रशासन को ज्ञापन सोपते हुए समाप्त किया। इससे पहले टिकैत ने कहा कि आंदोलन ही एक रास्ता है जो देश को बचा सकता है, दूसरा कोई रास्ता नहीं है. महापंचायत में यही मांग है कि एमएसपी गारंटी का कानून हो और स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को लागू किया जाए.महापंचायत में किसानों के गन्ना मूल्य भुगतान, मूल्य वृद्धि, बिजली मीटर, दस साल पुराने ट्रैक्टर समेत कई मुद्दों को उठाया गया ।

सरकार किसानों की जमीन लूटने पर आमादा

ट्रैक्टर पर आने की वजह बताते हुए उन्होंने कहा कि अभी कुछ साल तक तो यह ट्रैक्टर रहेगा। लेकिन, उसके बाद यह ट्रैक्टर किसानों का टैंक बन जाएगा। क्योंकि सरकार 2047 तक किसानों की जमीन लूट लेगी। राकेश टिकैत ने कहा कि सरकार किसानों को कर्जा देना चाहती है, फसलों का दाम देना नहीं चाहती, किसान की जमीन लूटना चाहती है। सरकार की मंशा है कि किसान की जमीन लूट ली जाए।

दिल्ली में 20 मार्च से जुटेंगे किसान

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि उनकी मुख्य रूप से एमएसपी की मांग है।साथ ही किसानों से जुड़ी अन्य मांगे भी हैं, लेकिन जब तक किसानों की एमएसपी की मांग पूरी नहीं होगी इसी तरह से देश भर में महापंचायत होती रहेंगी। साथ ही उन्होंने बताया कि 20 मार्च से दिल्ली में डेरा डाला जाएगा।

उधर,पुलिस प्रशासन ने सुरक्षा के मद्देनजर कमिश्नरी चौराहे से आसपास भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है। कमिश्नरी चौराहे को जोड़ने वाले सभी मार्गों पर बैरिकेडिंग की गई है।महापंचायत के चलते इन रास्तों पर आम आदमी के लिए पूरी तरह से नाकाबंदी रही ।पुलिस द्वारा भाकियू की महापंचायत के चलते ड्रोन से भी निगरानी की जा रही है।पुलिस ने कमिश्नरी चौराहे पर आने वाले सभी रास्तों पर नाकाबंदी कर रखी है। किसानों को छोड़कर आम जनता के लिए रास्ते पूरी बंद कर रखे हैं |